गुड़गांव में सीएम फ्लाइंग ने फर्जी कॉल सेंटर का किया भंडाफोड़, छह आरोपियों को किया गिरफ्तार


गुड़गांव18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पुलिस द्वारा पकड़ा गया फर्जी कॉल सेंटर।

  • कंप्यूटर व इन्टरनेट के माध्यम से तकनीकी सहायता देने के नाम पर धोखाधड़ी करते हुए करते थे ठगी

सीएम फ्लाइंग ने शुक्रवार को गुड़गांव के उद्योग विहार में छापेमारी कर एक और फर्जी कॉल सेंटर पर छापेमारी कर छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। टीम ने छापेमारी कर खुलासा किया है कि कॉल सेंटर में अमेरिका के लोगों को कम्प्यूटर व इंटरनेट पर तकनीकी सहायता के नाम पर धोखाधड़ी की जाती थी। सीएम फ्लाइंग के दस्ते की अगुवाई डीएसपी इन्द्रजीत सिंह ने की। कॉल सेंटर के मुख्य दो लैपटॉप व दो हार्ड डिस्क पुलिस टीम द्वारा आरोपियों के कब्जा से बरामद किया है। इससे पहले भी इसी साल तीन फर्जी कॉल सेंटर इसी तरह से पकड़े जा चुके हैं।

सीएम फ्लाइंग ने शुक्रवार सुबह उद्योग विहार फेस-1 स्थित को-वर्क बिल्डिंग में दूसरी मंजिल पर बिना अनुमति के शिव शक्ति ग्लोबल इंटरप्राइजिज के नाम से कॉल सेंटर चलाकर पॉपअप के माध्यम से कम्प्यूटर सिस्टम में लिंक भेजकर कम्प्यूटर की स्क्रीन खराब करने के बाद विदेशी नागरिकों के साथ कम्प्यूटर को रिमोट एक्सेस कर आई तकनीकी खराबी या वायरस रिमूव करने के नाम पर धोखे से डॉलरों में रकम वसूली किए जाने की सूचना मिली थी। इस पर इंस्पेक्टर कृष्ण कुमार व साइबर क्राइम की टीम ने संयुक्त रूप से छापेमारी की।

जहां काफी युवक कम्प्यूटर पर काम करते पाए गए। पुलिस टीम ने पूछताछ में मालिक के बारे में पूछा तो मालिक से जब इस कॉल सेंटर के संचालन के संबंध में कागजात मांगे गए तो वे कोई कागजात नहीं दिखा पाए। इस पुलिस ने कम्प्यूटरों पर काम कर रहे छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जिनकी पहचान अभिनंदन कुमार निवासी द्वारका दिल्ली, सुनीत गौतम निवासी छतरपुर होजखास, सौरभ शंकधर निवासी सेक्टर-12 गुड़गांव, अजय निवासी राजनगर कालोनी नई दिल्ली, ह्यूड्रोम सेमसन मीतल निवासी मणिपुर व हरेन्द्र निवासी चिराग दिल्ली के रूप में हुई है। पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर को लेकर धोखाधड़ी समेत अलग-अलग धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। कॉल सेंटर का मालिक अभिनंदन व मैनेजर सुनीत गौतम है, जो कॉल सेंटर चलाने के लिए काफी संख्या में कस्टमर केयर सर्विस व अन्य कार्यों के लिए जॉब पर रखे हुए हैं।

पुलिस ने आरोपियों को पूछताछ के लिए 1 दिन के रिमांड पर लिया

पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि वे अमेरिकी नागरिकों को गो टू एसिस्ट, एनी डेस्क, टीम विवर, लोगमेन व एम्मी के माध्यम से स्क्रीन को रिमोट एक्सेस पर लेकर सहायता के नाम पर ठगी करते थे। तकनीकी टीम के सदस्य कस्टमर से कम्प्यूटर सिस्टम को ठीक करनें के नाम पर लगभग 300 से 700 डालर प्रति ग्राहक लेते हैं। पूछताछ में बताया कि कॉल सैंटर मालिक अभिनन्दन कुमार व इसका मैनेजर सुनीत गौतम अवैध साइट या पोर्न साइट पर पॉपअप के माध्यम से वायरस का लिंक भेजते हैं।

जो विदेशी ग्राहक इन्टरनेट पर अवैध साइट या पोर्न साइट खोलकर मूवी देखते हैं तो उन विदेशी ग्राहकों के पास वह लिंक आने पर जैसे ही ग्राहक लिंक पर क्लिक करता है तो वायरस ग्राहक के कंप्यूटर की स्क्रीन खराब कर देता है। कस्टमर सर्विस के कर्मचारी विदेशी ग्राहकों के कम्प्यूटर सिस्टम को रिमोट पर लेकर इनकी अतिरिक्त तकनीकी टीम के सदस्य सौरव, अजय, सैमसन, व हरेन्द्र सिंह के पास ट्रास्फर करते हैं, जो विदेशी ग्राहकों से उनके कम्प्यूटर सिस्टम को ठीक करनें के नाम पर पैसों की मांग करते हैं। आरोपियों ने बताया कि अमेरिका के लोगों से तकनीकी सहायता देने के लिए डॉलर यूएसए के कनेक्टिव गेटवे के माध्यम से अपने आईसीआई बैक खाते में ट्रांसफर कराते थे। पुलिस टीम ने आरोपियों को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जहां से पूछताछ के लिए एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है।



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *