निदेशक मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च ने जांची हमीरपुर मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाएं


मेडिकल कॉलेज हमीरपुर के रेडियोलॉजी विभाग में निरीक्षण करते निदेशक मेडिकल एजुकेशन।
– फोटो : Hamirpur-HP

ख़बर सुनें

हमीरपुर। निदेशक मेडिकल एजूकेशन एंड रिसर्च डॉ. रजनीश पठानिया ने वीरवार को मेडिकल कॉलेज हमीरपुर की व्यवस्थाएं जांची। निरीक्षण के दौरान निदेशक ने कॉलेज में मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया।
वहीं, कोरोना से निपटने की तैयारियों को लेकर भी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के साथ समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने आर्थो ओटी का भी शुभारंभ किया। बता दें कि एमसीआई की टीम के दौरे से पूर्व निदेशक ने यहां निरीक्षण किया है। इस निरीक्षण के दौरान मेडिकल कॉलेज हमीरपुर में जो भी अव्यवस्थाएं या कमियां पाई जाएंगी, उनसे वे सरकार को अवगत करवाएंगे।
इसके अलावा उन्होंने मेडिकल कॉलेज के परिसर का भी निरीक्षण कर मरीजों को मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया।
उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज के लिए सीटी स्कैन मशीन तैयार है, लेकिन अभी असमंजस यह है कि उसे नए मेडिकल कॉलेज भवन जो कि अभी बन रहा है, में स्थापित किया जाए या यहीं पर। इस बारे में अभी विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हाईटैक एंबुलेंस में जो तकनीकी खराबी पाई गई है, वह हल्की खराबी है। जिसे संबंधित कंपनी को कहकर एक दो दिन में ठीक करवा दिया जाएगा। डॉ. रजनीश पठानिया ने कहा कि उन्होंने कोरोना से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने और एमसीआई दौरे से पहले कॉलेज की व्यवस्थाओं को जांचने के लिए वीरवार को निरीक्षण किया। अपनी रिपोर्ट वे सरकार को सौंपेंगे।

हमीरपुर। निदेशक मेडिकल एजूकेशन एंड रिसर्च डॉ. रजनीश पठानिया ने वीरवार को मेडिकल कॉलेज हमीरपुर की व्यवस्थाएं जांची। निरीक्षण के दौरान निदेशक ने कॉलेज में मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया।

वहीं, कोरोना से निपटने की तैयारियों को लेकर भी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन के साथ समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने आर्थो ओटी का भी शुभारंभ किया। बता दें कि एमसीआई की टीम के दौरे से पूर्व निदेशक ने यहां निरीक्षण किया है। इस निरीक्षण के दौरान मेडिकल कॉलेज हमीरपुर में जो भी अव्यवस्थाएं या कमियां पाई जाएंगी, उनसे वे सरकार को अवगत करवाएंगे।

इसके अलावा उन्होंने मेडिकल कॉलेज के परिसर का भी निरीक्षण कर मरीजों को मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया।

उन्होंने कहा कि मेडिकल कॉलेज के लिए सीटी स्कैन मशीन तैयार है, लेकिन अभी असमंजस यह है कि उसे नए मेडिकल कॉलेज भवन जो कि अभी बन रहा है, में स्थापित किया जाए या यहीं पर। इस बारे में अभी विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हाईटैक एंबुलेंस में जो तकनीकी खराबी पाई गई है, वह हल्की खराबी है। जिसे संबंधित कंपनी को कहकर एक दो दिन में ठीक करवा दिया जाएगा। डॉ. रजनीश पठानिया ने कहा कि उन्होंने कोरोना से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने और एमसीआई दौरे से पहले कॉलेज की व्यवस्थाओं को जांचने के लिए वीरवार को निरीक्षण किया। अपनी रिपोर्ट वे सरकार को सौंपेंगे।

 5 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *