पिछले 24 घंटे में राज्य में मिले 542 नए मरीज, 501 ठीक; 8 की मौत


  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jharkhand Coronavirus: 542 New Patients Found In The State In The Last 24 Hours, 501 Fine; 8 Deaths

रांची2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पिछले 24 घंटे में राज्य में 542 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई। (प्रतीकात्मक फोटो)

  • राज्य में 88559 मरीज ठीक हो चुके, रिकवरी रेट अब 92.28 हो गया
  • 24 घंटे में मिले नए मरीजों के बाद कुल संक्रमितों की संख्या 95967 हुई

राज्य में कोरोना की रफ्तार कम हो रही है। शनिवार को राज्य में 542 नए कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई। अब राज्य में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 95967 हो गई है। शनिवार को राज्य में 501 मरीज ठीक हुए। इसमें रांची के 181 मरीज शामिल हैं। राज्य में 88559 मरीज ठीक हो चुके हैं। रिकवरी रेट अब 92.28 हो गया है। शनिवार को राज्य में 8 मौत हुई। हालांकि, रांची में कोई मौत नहीं हुई।

कहां से मिले कितने मरीज
रांची से 242, बोकारो से 44, चतरा से 2, देवघर से 16, धनबाद से 26, दुमका से 3, पूर्वी सिंहभूम से 66, गढ़वा से 7, गोड्डा से 10, गुमला से 18, हजारीबाग से 9, जामताड़ा से 1, खूंटी से 20, कोडरमा से 9, लातेहार से 8, लोहरदगा से 4, पाकुड़ से 8, पलामू से 2, रामगढ़ से 25, सराईकेला से 6, सिमडेगा से 6 और पश्चिमी सिंहभूम से 10 मरीज

मुख्यमंत्री ने जाना शिक्षा मंत्री का हाल, आज आएगी मेडिकल टीम
इधर, शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो की स्थिति अत्यंत गंभीर होने कारण मेडिका हॉस्पिटल ने चेन्नई के एमजीएम हॉस्पिटल के क्रिटिकल टीम से परामर्श मांगा है। ऐसे में ये क्रिटिकल टीम रविवार को रांची पहुंचेगी, जो मंत्री के हालात का जायजा लेकर मेडिका के डॉक्टरों को बताएगी कि मंत्री जगन्नाथ महतो की स्थिति में सुधार के लिए और क्या किया जा सकता है? क्या इनको मेडिका में ही रखकर इलाज किया जाएगा या फिर बाहर लेे जाना पड़ेगा। इसकी जानकारी मेडिका के क्रिटिकल विभाग के हेड डॉ. विजय मिश्रा ने दी। उन्होंने बताया कि मंत्री की गंभीर स्थिति के कारण चिंतित मुख्यमंत्री ने रविवार को एक बैठक रखी थी, जिसमें उन्होंने उनको बुलाया। ऐसे में डॉ. मिश्रा ने बताया कि मंत्री का लंग्स करीब 90 प्रतिशत खराब हो चुका है। इस कारण उन्हें 100 प्रतिशत हाई फ्लो ऑक्सीजन देने के बावजूद भी स्थिति गंभीर बनी हुई है। बैठक में मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, कृषि मंत्री बादल पत्रलेख आदि मौजूद थे।

वेंटिलेटर पर रखने से मरीज को खतरा
डॉ. विजय मिश्र ने बताया कि चेन्नई से क्रिटिकल टीम को बुलाया है, जो उन्हें गाइड करेगी। बताया कि मंत्री को हाई फ्लो ऑक्सीजन पर ही रखा है। कोरोना के मरीजों को वेंटिलेशन पर रखने में रिस्क होता है। इस कारण वेंटिलेटर पर नहीं रखा। मंत्री की अभी जैसी स्थिति है, उसके अनुसार बगैर ट्रांसप्लांट लंग्स ठीक होने की संभावना है।



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *