लॉकडाउन में नौकरी जाने से परेशान बीए फाइनल इयर की 20 साल की स्टूडेंट ने फंदा लगा जान दी


चंडीगढ़2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

शहर के मलोया गांव की 20 साल की युवती ने फंदा लगाकर जान दी। डेमो फोटो

  • जिस समय फंदा लगाया मां-पिता घर में नहीं थे
  • पुलिस ने शव को मोर्चरी में रखवाया, अब होगा कोरोना टेस्ट

शहर के गांव मलोया में एक युवती ने आज सुबह फंदा लगा लिया। मामले में मलोया थाना पुलिस ने डीडीआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मृतका की पहचान मलोया की रहने वाली 20 साल की यशिका के रूप में हुई है।

पुलिस को यशिका के पास से एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें उसने खुद को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार बताया है। साथ ही भावुक होकर लाइन लिखी हुई है कि उसकी मां मानसिक तौर पर काफी सुदृढ़ है, और लिखा है कि वह सब कुछ मैनेज कर सकती हैं, लेकिन वह अब जीना नहीं चाहती है।

वही घर वालों का कहना है कि यशिका प्राइवेट नौकरी करती थी। लॉक डाउन के बाद से उसकी नौकरी छूट गई। इसके अलावा वह बीए फाइनल ईयर की स्टूडेंट भी थी। यशिका नौकरी चले जाने के कारण परेशान थी और यही वजह थी उसके सुसाइड की।

पुलिस के मुताबिक यशिका के परिवार में माता-पिता और उसके दो भाई हैं। यशिका को आखरी बार सुबह 8:30 बजे देखा गया था। घटना के समय यशिका की मां मंदिर गई हुई थी उसके पिताजी कहीं बाहर गए हुए थे, जबकि एक भाई घर में सोया हुआ था दूसरा बाहर खेलने गया था।

घटना के बाद जब यशिका की मां घर पहुंची तो उन्होंने देखा की बेटी ने फंदा लगाया हुआ है, तुरंत शोर मचाया जिस पर लोग जमा हुए और सूचना पुलिस को दी गई। इस पर यशिका को सेक्टर- 16 अस्पताल लेकर जाया गया जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है। पुलिस ने यशिका के शव को अस्पताल में रखवा दिया है। प्रोटोकॉल के तहत अब उसका कोरोना टेस्ट होगा। जिसके नतीजे आने के बाद निर्भर करता है कि मृतका का पोस्टमार्टम किया जाएगा या नहीं।



Source link

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *