श्मशान घाटों और कब्रिस्तानों का होगा विकास


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

जिले के 24 गांवों के 19 श्मशान घाटों और 21 कब्रिस्तानों में विकास कार्य करवाए जाएंगे। शिवधाम नवीनीकरण योजना के तहत इनका विकास किया जाएगा। उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने विकास व पंचायत अधिकारियों को बैठक में इस संबंध में निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की शिवधाम नवीनीकरण योजना के तहत जिले के श्मशान घाटों व कब्रिस्तानों में जरूरत के मुताबिक काम करवाए जाएंगे। योजना के तहत शहरी और ग्रामीण इलाकों में शिवधाम (स्वर्गधाम) परिसरों का नवीनीकरण किया जाएगा। इसमें सभी शिवधामों में चहारदीवारी का निर्माण, आवश्यकतानुसार कम से कम एक और अधिकतम दो शेड का निर्माण, रास्ता, पानी व पौधरोपण के काम किए जाएंगे। इसके तहत दो दर्जन गांवों में 40 विकास कार्य होने हैं। इन कार्यों पर 207.79 लाख रुपये की लागत आएगी। शिवधामों में पेयजल की व्यवस्था के साथ ही आवागमन मार्ग को भी दुरुस्त किया जाएगा। योजना का मकसद यही है कि अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो। उन्होंने बताया कि एक सर्वे के अनुसार रोहतक जिले में 501 श्मशान घाट और 104 कब्रिस्तानों में विकास कार्य होने हैं। इनमें से 565 काम पूरे किए जा चुके हैं, 40 होने बाकी हैं। एक अनुमान के मुताबिक रोहतक में 139 गांवों में 262 श्मशान घाट और 44 कब्रिस्तान हैं। बैठक में एडीसी महेंद्र पाल, एसडीएम राकेश सैनी, भाली चीनी मिल के एमडी मानव मलिक, एसडीएम सांपला श्वेता सुहाग और डीडीपीओ नरेंद्र धनखड़ भी मौजूद थे।

जिले के 24 गांवों के 19 श्मशान घाटों और 21 कब्रिस्तानों में विकास कार्य करवाए जाएंगे। शिवधाम नवीनीकरण योजना के तहत इनका विकास किया जाएगा। उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने विकास व पंचायत अधिकारियों को बैठक में इस संबंध में निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार की शिवधाम नवीनीकरण योजना के तहत जिले के श्मशान घाटों व कब्रिस्तानों में जरूरत के मुताबिक काम करवाए जाएंगे। योजना के तहत शहरी और ग्रामीण इलाकों में शिवधाम (स्वर्गधाम) परिसरों का नवीनीकरण किया जाएगा। इसमें सभी शिवधामों में चहारदीवारी का निर्माण, आवश्यकतानुसार कम से कम एक और अधिकतम दो शेड का निर्माण, रास्ता, पानी व पौधरोपण के काम किए जाएंगे। इसके तहत दो दर्जन गांवों में 40 विकास कार्य होने हैं। इन कार्यों पर 207.79 लाख रुपये की लागत आएगी। शिवधामों में पेयजल की व्यवस्था के साथ ही आवागमन मार्ग को भी दुरुस्त किया जाएगा। योजना का मकसद यही है कि अंतिम संस्कार में शामिल होने वाले लोगों को किसी तरह की परेशानी न हो। उन्होंने बताया कि एक सर्वे के अनुसार रोहतक जिले में 501 श्मशान घाट और 104 कब्रिस्तानों में विकास कार्य होने हैं। इनमें से 565 काम पूरे किए जा चुके हैं, 40 होने बाकी हैं। एक अनुमान के मुताबिक रोहतक में 139 गांवों में 262 श्मशान घाट और 44 कब्रिस्तान हैं। बैठक में एडीसी महेंद्र पाल, एसडीएम राकेश सैनी, भाली चीनी मिल के एमडी मानव मलिक, एसडीएम सांपला श्वेता सुहाग और डीडीपीओ नरेंद्र धनखड़ भी मौजूद थे।

 6 total views,  1 views today

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *